Mahashivratree 2024: महाशिवरात्री को शिव भक्त को क्या खाना चाहिए और क्या नही खाना चाहिए

महाशिवरात्री को शिव भक्त को क्या खाना चाहिए और क्या नही खाना चाहिए आज के इस लेख में आप लोग को पता चलने वाला है जैसा की सभी शिव भक्तों को पता होगा की 7 march 2024 को Mahashivratree है ऐसा हिन्दू मान्यता है कि इस दिन भोलेनाथ शिव और मां पार्वती का विवाह होता है इस दिन व्रत रहने वाले लोगो की मनोकामना पूरी होती है क्योंकि शंकर भोलेनाथ भक्तो के ऊपर बहुत प्रसन्न रहते हैं।
सभी कुंवारे लड़के लड़कियों को इस व्रत को रखना चाहिए ताकि उनकी मनोकामना पूरी हो सके ।

महाशिवरात्रि को क्या खाना चाहिए

शिवरात्रि व्रत रखने वाले भक्त गण को फल जैसे बैर, सेब, संतरा, केला और अंगूर जैसे फलहारी खाद्य सामग्री खाना चाहिए इसके अलावा हो सके तो देसी घी में तली हुई आलू भी खाना चाहिए।

महाशिवरात्रि को क्या नही खाना चाहिए

सभी शिव भक्तों को इस व्रत दिवस पर दुकान की सामग्री का सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि दुकान के सामान में शुद्धता नही रहती है बर्फी या खोया की मिठाई में कहीं न कहीं अशुद्धता रहती है इसलिए इसके खाने के बजाय गाय के दूध के दही या पपीता जैसे फलहारी भोजन करना चाहिए।

शिवरात्रि के दिन क्या करें क्या ना करें?

महाशिवरात्रि के दिन शिव भक्तों को लहसुन प्याज चावल से बने खाद्य पदार्थ को नहीं खाना चाहिए इसके अलावा नसीले पदार्थ को भी नही प्रयोग करना चाहिए शराब का सेवन तो बिल्कुल नही करनी चाहिए इसका सेवन करने से मनोकामना पूरी होने के बजाय घर में अशांत और कलह की स्थिति बनी रहती है।

Read More 

उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती 2024

शिवरात्रि का व्रत कितने बजे खुलते हैं?

हिंदू पंचांग के अनुसार महाशिवरात्रि व्रत को सुबह 06:03 से शाम 10:00 के बीच खोला जा सकता है। व्रत का पारण करने से पहले स्नान करें और उसके बाद भगवान शिव की उपासना करें। फिर व्रत का पारण करे।

शिवरात्रि का व्रत कितने घंटे का होता है?

भारत में कोई भी वृत अक्सर सुबह से शुरु होता है और शाम तक रहता है अगले दिन के सुबह को व्रत खत्म होता है आम तौर पर 24 घंटे का उपवास रखते हैं इस एक दिन में लोग फलहारी खाद्य पदार्थ का सेवन करते है न की दाल चावल रोटी का।

शिवरात्रि की रात को पूजा कैसे करें?

हिन्दू शास्त्रों के अनुसार शिव भक्तों को शिव रात्रि के दिन ऊं नम: शिवाय मंत्र का जाप कम से कम 108 बार करना चाहिए इसके अलावा शिव तांडव को भी पढ़ लेना चाहिए।

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी से आप सभी को कुछ न कुछ सीख मिली होगी। यदि आपको यह लेख पसंद आया हो तो कमेंट में हमे अवश्य बताएं।

Leave a Reply